अकूल

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अकूल वि॰ [सं॰ अ+कुल]

१. जिसका किनारा या ओर छोर न हो । उ॰—आकुल अकूल बनने आती, अब तक तो है वह आती ।—लहर, पृ॰ १३ ।

२. अनंत । असीम । उ॰—साथी मै हो गया अकूल का, भूल गया निज सीमा ।—अनामिका, पृ॰ ६९ ।