अगस्ति

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अगस्ति पु संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. अगस्त्य तारा । उ॰— उए अगस्ति हस्ति घन गाजा । तुरै पलानि चढ़े रन राजा । —जायसी ग्रं॰, पृ॰ ३५६ ।

२. अगस्त्य ऋषी । उ॰—हुत जो अपार बिरह दुख दोखा । जनहुँ अगस्ति उदधि जल सोखा । —जायसी ग्रं॰, पृ॰ ३४० ।

३. अगस्त्य या बक वृक्ष [को॰] ।