अग्नि

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

अग्नि एक प्रकार की ऊर्जा है, जो गर्म होती है और उससे रोशनी निकलती है। यह किसी वस्तु या पदार्थ या ईंधन के जलने से निकलती है।

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

अग्नि संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. आग । तेज का गोचर रूप । उष्णता । पृथ्वी, जल, वायु, आकाश आदि पंचभूतों या पंचतत्वों में से एक ।

२. वैद्यक के मत से तीन प्रकार की अग्नि । विशेष—आयुर्वेद में अग्नि के तीन प्रकार माने गए है । यथा—(क) भौम, जो तृष्ण, काष्ठ आदि के जलने से उप्नन्न होती है । (ख) दिव्य, जो आकाश में बिजली से उत्पन्न होती है । (ग) उदर या जठर, जो पित्त रूप से नाभि के ऊपर और हृदय के नीचे रहकर भोजन भस्म करती है । इसी प्रकार कर्मकांड में भी अग्नि तीन प्रकार की मानी गई है । यथा— गार्हपत्य, आहवनीय, दक्षिणाग्नि । स्भ्याग्नि, आवसथ्य और औपासनाग्नि—इन तीन को मिलाकर उनके छह भेद है जिनमें प्रथम तीन प्रधान है ।

३. वेद के प्रधान देवताऔं में से एक । विशेष—ऋगवेद का प्रादुर्भाव इसी से माना जाता है । वेद में अग्नि के मंत्र बहुत आधिक है । अग्नि की सात जिह्वाएँ मानी गई है जिनके अलग अलग नाम है, जैसे—काली, कराली, मनोजवा, सुलोहिता, धूम्रवर्णा, उग्रा और प्रदीप्ता । भिन्न भिन्न ग्रंथों में य नाम भिन्न भिन्न दिए है । यह देवता दक्षिण पूर्व कोण का स्वामी है और आठ लोकपालों में से एक है । पुराणों में इसे वसु से उत्पन्न धर्म का पुत्र कहा है । इसकी स्त्री स्वाहा थी जिससे पावक, पवमान और शुचि ये तीन पुत्र उत्पन्न हुए । इन तीनों पुत्रों के भी पैतालीस पुत्र हुए । इस प्रकार सब मिलाकर ४९ अग्नि माने गए है जिनका विवरण वायुपुराण में विस्तार के साथ दिया है । क्रि॰ प्र॰—जलना । जलाना ।—डालना ।—फूँकना ।—बालना ।— वुझना ।—बूझाना ।—भड़कना ।—भडकाना ।—लगना । — लगाना ।—सुलगाना ।

४. जठराग्नि । पाटन शक्ति । जैसे—'अग्नि तो मंद हो गई है । भूख कहाँ से लगे (शब्द॰) ।

५. पित्त ।

६. तीन की संख्या क्योंकि कर्मकांड़ के अनुसार तीन अग्नि मुख्य है ।

७. सोना ।

८. चित्रक । चीता ।

९. भिलावा ।

१०. नीबू ।

११. अग्नि- कर्म (को॰) ।

१२. 'र्' का गूढ प्रतीक (को॰) ।

१३. प्रकाश (को॰) ।