अघोरी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अघोरी ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰] [स्त्री अघोरिन्] १ अघोर मत का अनुयायी । अघोर पंथ पर चलनेवाला साधक जो मद्य मांस के सिवाय मल, मूत्र, शव आदि घिनौनी वस्तुओं को भी खा जाता है और अपना वेश भी भयंकर और घिनौना बनाए रहता है । औघड़ । कीनारामी ।

२. घिनौनी वस्तुओं का व्यवहार करनेवाला व्यक्ति । भक्ष्याभक्ष्य का विचार न करनेवाला । सर्वभक्षी । घृणित व्यक्ति ।

अघोरी ^२ वि॰ जो घिनौनी वस्तुओं का व्यवहार करे । घृणित । घिनौना । उ॰—बन्यौ धर्म आपहिँ तुम हित चंडाल अघोरी । — रत्नाकर, भा॰ १ पृ॰ ९२ ।