अङ्गराग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अंगराग सं॰ पुं॰ [सं॰ अङ्गराग]

१. चंदन, केसल, कपुर, कस्तुरी आदि सुगंधित द्रव्यों का मिला हुआ लेप जो अंग में लगाया जाता है । उबटन । बटना ।

२. वस्र् और आभुषण ।

३. शरीर की शोभा के लिये महावर आदि रँगने की सामग्री ।

४. स्त्रियों के शरीर के पाँच अंगों की सजावट—माँग में सिंदुर, माथे थे रोली, गाल पर तिल की रचना, केसर का लेप, और हाथ पैर में मेहँदी वा महावर ।

५. एक प्रकार की सुगंधित देसी बुकनी जिसे मुँह पर लगाते है । चीसठ कलाओं में से एक ।—वर्ण॰ ।