अचर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अचर ^१ वि॰ [सं॰ ] न चलनेवाला । स्थावर । जड़ ।

अचर ^२ संज्ञा पुं॰

१. चलनेवाला पदार्थ । जड़ पदार्थ । स्थावर द्रव्य । उ॰—जे सजीव जग चर अजर, नारि पुरुष अस नाम ।— मानस १ ।८४ ।

२. ज्योतिष के अनुसार वृष, सिंह वृश्चिक और कुंभ राशियाँ जो स्थिर हैं (को॰) ।

अचर ^२ पु † संज्ञा पुं॰ [सं॰ आचार] आचरण । आचर । उ॰— दंभ सहित कलि धरम सब, छल सभेत ब्यवहार । स्वारथ सहित सनेह सव, रुचि अनुहरन आचार ।—तुलसी ग्रं॰, पृ॰ १५० ।