अजिन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अजिन संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. चर्म । चमड़ा । खाल । उ॰—गज अजिन दिव्य दुकूल जोरत सखी हँसि मुख मोरि कै । —तुलसी ग्रं॰, पृ॰३४ ।

२. ब्रह्मचारी आदि के धारण करने के लिये कृष्णमृग और व्याघ्र आदि का चर्म । उ॰—अजिन बसन फल असन महि सयन डासि कुस पात । —मानस, २ । २११ ।

३. चमड़े का एक प्रकार का थैला (को॰) ।

४. भाथी । धौंकनी (को॰) ।

५. छाल ।