अथाह

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अथाह ^१ वि॰ [सं॰ अस्ताघ, प्रा॰ अत्याह अथवा सं॰ अ=नहीं+ √स्था=ठहरना]

१. जिसकी थाह नहो । जिसकी गह— राई का अंत न हो । बहूत गहरा । अगाध जैसे—यहाँ अथाह जल है (शब्द) ।

२. जिसका कोई पार या अंत न पा सके । जिसका अंदाज न हो सके । अपरिमित । अपार । बहुत अधिक ।

३. गंभीर । गूढ़ । समझ में न आने योग्य । कठिन । उ॰— (क) करै नित्य जप होम औ जानत वेद अथाह (शाब्द) । (ख) रमणी ह्रदय अथाह जो न दिखलाई पड़ता ।—कानन॰, पृ॰ ७१ ।

अथाह ^२ संज्ञा पुं॰

१. गहराई गड्ढा । जलाशय ।

२. समुद्र । उ॰—वा मुख के फिर मिलन को, आस रही कछु नाहिं । परे मनोरथ जाय मम अब अथाह के माहिं ।—शकुंतला, पू॰११४ । मुहा.—अथाह में पड़ना=मुश्किल में पड़ना । जैसे—हम अथाह में पड़े हैं, कुछ नहीं सुझता [शब्द] ।