अधिकार

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

किसी कार्य को करना या किसी वस्तु या अन्य किसी पर किसी भी प्रकार का दावा करना आदि।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अधिकार ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. कार्यभार: प्रभुत्व । आधिपत्य । प्रधानता । जैसे—'इस कार्य का अधिकार उन्हीं के हाथ में सौपा गया है' (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—चलाना । —जनाना । —देना । —सौंपना ।

२. स्वत्व । हक । अखितयार जैस—'यह पुछने का अधिकार तुम्हें नहीं है' (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰— देना । —रखना ।

३. दावा कब्जा । प्राप्ति । जैसे—'सेना ने नगर पर अधिकार कर लीया' (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰— करना । —जमाना ।

४. क्षमता: सामर्थ्य । शक्ति ।

५. योग्यता । परिचय । जानापारी । ज्ञान । लियाकत । जैसे—(क) 'इस बिषय में उसे कुछ अधिकार नहीं है' (शब्द॰) ।

३. प्रकरण । शीर्षक । जैसे— वातरोगधिकार ।

७. नाटय़शास्त्र के अनुसार रुपक के प्रधान फल का स्वामित्व या उसकी प्राप्ति की योग्यता । ८० कर्तव्य (को) ।

९. निरीक्षण (को॰) ।

१०. स्थान (को॰)

१. व्याकरण में एक मुख्य या प्रधान नियम जिससे उसके क्षेत्र में' । आनेवाले अन्य नियम भी शासित होते है । विशेष—यह अधिकार तीन प्रकार का होता है—(१)सिहा- वलेकित, (२) मंड़ुकप्लुत ओर (३) गंगाप्रवाह के सदृश ।

अधिकार ^२पु वि॰ पुं॰ [सं॰ अधिक] अधिक । बहुत ।