अनावृत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

अनावृत का अर्थ होता है उघड़ा।

उदाहरण

  • प्रसिद्ध व्यंगकार श्रीलाल शुक्ल ने स्वतंत्रता के बाद के भारत के ग्रामीण जीवन की मूल्यहीनता को अपने उपन्यास 'राग दरबारी' में अनावृत करके रख दिया है।

मूल

  • अनावृत संस्कृत मूल का शब्द है।

अन्य अर्थ

  • नंगा

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अनावृत वि॰ [सं॰] [स्त्री अनावृत]

१. जो ढँका न हो । आवरण रहित । खुला ।

२. जो घिरा न हो ।