अनुस्वार

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अनुस्वार संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. स्वर के बाद उच्चरित होनेवाला एक अनुनासिक वर्ण जिसका चिन्ह () है । निगृहीत इसे आश्रय स्थानभागी भी कहते है क्योंकि जिस स्वर के बाद यह लगेगा उसी का सा उच्चारण इसका होगा ।

२. स्वर के उपर की बिंदी ।