अमूर्त

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अमूर्त ^१ वि॰ [सं॰] मूर्तिरहित । निराकर । अवयवशून्य । निरवयव । उ॰— कुछ भावों के विषय तो 'अमूर्त' तक होने लगे, जैसे कीर्ति की लालासा ।— रस॰, पृ॰ १६५ ।

अमूर्त ^२ संज्ञा पुं॰

१. परमेश्वर ।

२. आत्मा ।

३. जीव ।

४. काल ।

५. दिशा ।

६. आकाश ।

७. वायु ।

८. शिव (को॰) । यौ॰—अमूर्तगुण— धर्म अधर्म आदि गुण जो अमूर्त माने जाते हैं ।