अलख

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

अलख का अर्थ है अदृश्य, अलक्ष्य ।

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अलख ^१ वि॰ [सं॰ अलक्ष्य]

१. जो दिखाई न पड़े । जो नजर न आए । अदृश्य । अप्रत्यक्ष । उ॰—बुधि, अनुमान, प्रमान, स्त्रुति किऐं नीठि ठहराय । सूछम कटि परब्रह्म की, अलख, लखी नहि जाय ।-बिहारी र॰, दो॰ ६४८ ।

२. अगोचर । इंद्रियातीत । उ॰—जे उपमा पटतर लै दीजै ते सब उनहिं न लायक । जौ पै अलख रह्मौ चाहत तौ बादि भए ब्रजनायक ।-सूर॰, २ ।४६४५ ।

३. ईश्वर का एक विशेषण । उ॰—प्रलख अरूप अबरन सो करता । वह सबसों सब वहि सों बरता ।-जायसी (शब्द॰) । मुहा॰—अलख जगाना=(१) पुकारकर परमात्मा का स्मरण करना या कराना । (२) परमात्माके नाम पर भिक्षा माँगना । यौ॰—अलखधारी । अलखनामी । अलखनिरंजन । अलखपुरुष= ईश्वर । अलखमंव=निर्गुण संत संप्रदाय में ईश्वर मंत्र ।

अलख ^२ संज्ञा पुं॰ ब्रह्मा । ईश्वर [को॰] ।