आँग

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आँग पु † संज्ञा पुं॰ [सं॰ अङ्ग]

१. अंग । उ॰—(क) बानिनि चली सेंदुर दिये माँगा । कयथिनि चली समाइ न आँगा । जायसी ग्रं॰, पृ॰८१ । (ख) कहि पठई जियभावती, पिय आवन की बात । फूली आँगन मैं फिरै, आँग न आँग समाप्त ।—बिहारी र॰, दो॰ २५४ ।

२. कुच । स्तन । उ॰—कहै पदमाकर क्यों आँग न समात आँगी लागी काह तोहि जागी उर में उचाई है ।—पद्माकर ग्रं॰, पृ॰ ८४ ।

३. चराई जो प्रति चौपाये पर ली जाती है ।