आँदू

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आँदू संज्ञा पुं॰ [सं॰ अन्दु = बेडी]

१. लोहे का कडा । बेडी । उ॰— हुलै इतै पर मैन महावत लाज के आँदु परे जऊ पाइन । त्यों पदमाकर कौन कहों गति माते मतंगनी की दुखदाइन । — पद्माकर ग्रं॰, पृ॰१३० ।

२. बाँधने का सीकड । उ॰—अँजन आँदु सौं भरे जधपि तुव गज नैन । तदपि चलावत रहत है झुकि झुकि चोटैं सैन । स॰ सप्तक,पृ॰१९३ ।