आँवन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आँवन संज्ञा पुं॰[सं॰ आनन= मुँह]

१. लोहे की सामी जो पहिए के उस छेद के मुँह पर लगी रहती है जिसमें होकर धुरी का दंड जाता है । मुहँड़ी ।

२. वह औजार जिससे लोहे के छेद को लोहार लोग बढ़ाते हैं ।