आई

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आई ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ आयु]

१. आयु । जिवन । उ॰— सतयुग लाख वर्ष की आई, त्रेता दश सहस्त्र कह गाई ।— सूर (शब्द॰) ।

२. मृत्यु । मौत (अ॰) भरा कटोरा । दूध का, ठढ़ा करके, कपी । तेरी आई मैं मरूँ, किसी तरह तू जी—(शब्द॰) ।

आई ^२ क्रि॰ अ॰ 'आना' का भूतकाल स्त्री॰: यो॰— आई गई = आकर गुजरी हुई बात ।

आई ^३ † संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ अर्यिका, प्रा॰ अज्जिआ]

१. पितामही । दादी ।

२. माँ ।

आई ^४ प्रत्य॰ [हिं॰] एक प्रत्यय जो भाववाचक संज्ञा बनाने के लिये विशेषण शब्दों के अंत में जोड़ा जाता है, जैसे, 'कठिन' से 'कठिनाई', बड़ा' से 'बड़ाई', 'छोटा' से 'छुटाई', 'मीठा' से 'मिठई' आदि ।

२१. एक प्रत्यय जो धातुओं में लगकर भाववाचक संज्ञाएँ बनाता है । जैसे, 'पढ़' 'पढाई', लिख से, लिखाई', 'लड़' से 'लड़ाई' ' भिड़' से 'भिड़ाई' आदि ।