आईना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आईना संज्ञा पुं॰ [फा॰ आईवह्]

१. आरसी । दर्पण । शीशा । यौ॰— आईनादार । आईमनाबंदी । आइनासाज । अइनासाजी । मुहा॰—आईना होना = स्पष्ट होना । जैसे, — यह बात तो आप पर आईना हो गई होगी । आईने में मुँह देखना— अपनी योग्यता को जाँचना । ( यह मुहावरा उस समय बोला जाता है जब कोई व्यक्ति अपनी योग्यता से भी अधिक काम करने की इच्छा प्रकट करता है; जैसे,— पहले आइने में अपनामुँह तो देख लो, फिर बात करना ।

२. किवाड़े का दिलह । वि॰ दे॰ 'दिलहा' । यौ॰— आईनेदार = वह किवाड़ा जिसमें आईना या दिलहा हो ।