आकर्षीणी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आकर्षीणी संज्ञा पुं॰ [सं॰ ]

१. एक लग्गी जिससे फल फुल तोड़ते हैं । अँकुसी । लकसी ।

२. प्राचीन काल का एक सिक्का ।

३. शरीर परधारण की जानेवीली विशेष प्रकार की मुद्रा या चिहन (को॰) ।