आकुण्ठन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आकुंठन संज्ञा पुं॰ [सं॰ आकुण्ठन] [वि॰ आकुंठित]

१. गुठला होना । कुंद होना । लज्जा । शर्म ।