आज्ञा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आज्ञा संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. बड़ों का छोटों को किसी काम के लिये कहना । आदेश । हुक्म । जैसे,—राजा ने चोर को पकड़ने की आज्ञा दी ।

२. छोटों को उनकी प्रार्थना के अनुसार बड़े का उन्हें कोई काम करने के लिये कहना । स्वीकृति । अनुमति । जैसे,—बहुत कहने सुनने पर हाकिम न लोगों को जुआ खेलने की आज्ञा दीं । क्रि॰ प्र॰—करना ।—देना ।—मानना ।—लेना ।— होना । यौ॰—आज्ञाकारी । आज्ञावर्ती । आज्ञापक । आज्ञापालन । आज्ञाभंग ।