आड़

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

आड़ ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ अल=डंक, पा॰ अड, प्रा॰ आड़] बिच्छू या भिड़ आदि का डंक ।

आड़ ^३ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ आलि= रेखा]

१. लंबी टिकली जिसे स्त्रियाँ माथे पर लगाती हैं । उ॰—गौरी गदकारी परै हँसत कपोलनु गाड़ । कैसी लसति गँवारि यह सुनकिरवा की आड़ ।—बिहारी र॰, दो॰ ७०८ ।

२. स्त्रियों के मस्तक पर का आड़ा तिलक । उ॰—केसव, छबीलो छत्र सीसफूल सारथी सो केसर की आड़ि अधि रथिक रची बनाइ ।—केशव ग्रं॰, भा॰१, पृ॰ ९० । (ख) मंगल बिंदु सुरंग, ससि मुखु केसरि आड़ गुरु । इक नारी लहि संगु, किय रसमय लोचन जगत ।— बिहारी र॰, दो॰, ४२ ।

३. माथे पर पहनने का स्त्रियों का एक गहना । टीका ।