आरोप

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

आरोप का अर्थ इलज़ाम है। यह शब्द किसी की प्रतिकुलता स्पष्ट करने के लिए काम में लिया जाता है। आवश्यक नहीं की यह व्यक्तिगत हो।

उदाहरण

  • जब अनिल पर लगाये गए आरोप सिद्ध हो गए, तब अदालत ने उसे सजा सुनाई।
  • अमेरिका का आरोप, भारत में अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न।[१]

मूल

अन्य अर्थ

संबंधित शब्द

हिंदी में

अन्य भारतीय भाषाओं में निकटतम शब्द

सन्दर्भ

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

आरोप संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. स्थापित करना । लगाना । मढ़ना । उ॰— कवियों को उनपर अपने भावों के आरोपण की आवश्य- कता नहीं होती । — रस॰, पृ॰ १४ ।

२. एक पेड़ को एक जगह से उखाड़कर दूसरी जगह लगाना । रोपना । बैठाना ।

३. मिथ्याध्यास । झूठी कल्पना ।

४. एक पदार्थ में दूसरे पदार्थ के धर्म की कल्पना । जैसे,— असंग जीवात्मा में कर्तृत्व धर्म का आरोप ।

५. एक पदार्थ में दूसरे पदार्थ के आरोप से उत्पन्न मिथ्या ज्ञान ।

६. (साहित्य में) एक वस्तु में दूसरी वस्तु के धर्म की कल्पना । विशेष—यह आरोप दो प्रकार का माना गया है । एक आहार्य और दूसरा अनाहार्य । आहार्य वह है जहाँ इस बात को जानते हुए भी कि पदार्थों की प्रत्यक्षता से श्रम की निवृत्ति हो सकती है, कहनेवाला अपनी इच्छा के अनुसार उसका प्रयोग करता है । जैसे 'मुखचंद्र' । यहाँ 'मुख' और 'चंद्र' दोनों के धर्म के साक्षात् द्वारा भ्रम की निवृति हो सकती है । दूसरा 'अनाहार्य' है जिसमें ऐसे दो पदार्थों के बीच आरोप हो जिनमें एक या दोनों परोक्ष हों ।