इंछना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इंछना पु क्रि॰ सं॰ [हिं॰ इंछ+ना (प्रत्य.)] दे॰ 'इच्छना' । उ॰—पुनि तिनकी पद पंकज रज अज अजहूँ छिछै । उद्धौ बुद्बि विशुद्धनु सौं पुनि सौ रह इंछै ।—नंद॰ ग्र॰ पृ॰, ४१ ।