इंतहा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इंतहा संज्ञा पुं॰ [अं॰]

१. समाप्ति । अंत । उ॰— इब्तिदा में ही मर गए सब यार । इशक की कौन इंतहा लाया । —कविता कौ॰ भा॰, ४ पृ॰ १३३ ।

२. हद । पराकाष्ठा । मुहा॰—हंतहा करना = हद कर देना । अति कर देना । यौ॰.—इंतहापसंद = अति को पसंद करनेवाला । अतिवादी ।