इंद्रजाल

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इंद्रजाल संज्ञा पुं॰ [सं॰ इन्द्रजाल]

१. मायाकर्म । जादूगरी । तिलस्म । उ॰—सो नर इंद्रजाल नहिं भूला ।—मानस, ३ । ३३ । विशेष—यह तंत्र का भी अंग है ।

२. एक प्रकार का रणचातुर्य ।

३. अर्जुन का एक शस्त्र (को॰) ।