इंद्रिजित

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इंद्रिजित पु संज्ञा वि॰ [सं॰ इन्द्रियजित्] दे॰ 'इंद्रियजित्' । उ॰—देखि कै उमा कौं रुद्र लज्जित भए मैं कौन यह काम कीनौ । इंद्रिजित हौं कहावत हुतौ आपु कौं समुझि मन माहिं ह्वै रहयौ खीनौ ।—सूर॰ ८ । १० ।