इकआँक

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इकआँक पु क्रि॰ वि॰ [सं॰ एक, प्रा॰ इक्क +हिं॰ आँक ] निश्चय । निश्चय करके । अवश्य । उ॰— जे तब होत दिखा- दिखी, भईँ अमी एक आँक । दगैं तिरीछी दीठि अब ह्वै बीछी को डाँक । — बिहारी र॰, दो॰ ६१५ । (ख) यदपि लौंग ललितौं तऊ तूं न पहिरि इक आँक । सदा साँक बठियै रहै रहै चढी सी नाँक । — बिहारी र, दो॰६८५ ।