इकताई

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इकताई पु संज्ञा स्त्री [सं॰ एकता या फा॰ यकता+हिं॰ई (प्रत्य॰)]

१. एक होने का भाव । एकत्व । सिखे आपने दृगनसैं इकताई की बात । जूरी डीठ इक सँग रहै, जद्दपि जुदे दिखात ।—सं॰ सप्तक,पृ २ ।९ ।

२. अकेले रहने की इच्छा,स्वभाव या बान । एकांतसेविता । अली गई अब गरबई इकताई मुकुताई । भली भई ही अमलई जो पीदई दिखाई ।स॰ सप्तक, पृ॰२८४ ।