इकहाइ

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

इकहाइ पु, इकहाई पु क्रि॰ वि॰ [हिं॰, एक+हाई (प्रत्य॰))]

१. एक साथ । फोरन ।उ॰—(क) यह सुनी रनिन के बदन भे प्रसत्र हरखाई । ज्यों सूरज के उदय ते खिलत कमल इकहाई ।— (शब्द॰) । (क) सीत भीत हरषदि तें उठै रोम इकहाइ । ताहि कहत रोमांच है सुकबीन के समुदाई । पद्माकर ग्रं॰,पृ॰ १६८ ।

२. एकदम । अचानक ।