ईठि

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ईठि पु संज्ञा स्त्री [ सं॰ इष्टि, प्रा॰ इट्ठि ]

१. मित्रता । दोस्तो, प्रीति । उ॰—लहि सूनैं घर कर गहत दिठादिठी की ईठि । गडी़ सूचित नाहीं करति करि ललचौंही दीठि । -बिहारी र॰, दो॰ ५८२ ।

२. चेष्टा । यत्न । उ॰—सखियाँ कहैं सु साँच है लगत कान्ह की डीठि । कालि जु मो तन तकि रह्यो उमरचो आजु सो ईठि ।- भिखारी॰ ग्रं॰, भा॰१, पृ॰ ७ ।

३. सखी । उ॰—लोनै मुहुँ दीठि न लगै, यौं कहि दीनौ ईठि । दूनी है लागन लगी, दिऐं दिठौना दीठि ।- बिहारी र॰, दो॰ २७ ।