ईर्य़ासमिति

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ईर्य़ासमिति संज्ञा पुं॰ [ सं॰ ] जैनमतानुसार साढे़ तीन हाथ तक आगे देखकर चलने का नियम । यह नियम इस कारण रखा गया है कि जिसमें आगे पड़नेवाले कीडे़ फतिंगे दिखाई पडें ।