ईश्वरप्रणिधान

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ईश्वरप्रणिधान संज्ञा पुं [सं॰] योगशास्त्र के अनुसार पाँच प्रकार के नियमों में से अंतिम एकाग्रध्यानात्मक । ईश्वर में अत्यंत श्रद्धा और भक्ति रखना तथा अपने सब कर्मो के फलों को उसे अर्पित करना ।