ईश्वरवाद

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ईश्वरवाद संज्ञा पुं [सं॰ ईश्वर+वाद ] ईश्वर को जगत् का कर्ता माननेवाला मत जिसमें भगवान् के दया दाक्षिण्य की झलक जगत् के नाना रूपों और व्यापारों में रहस्य की दृष्टि से देखी जाती है ।उ॰—ईसाइयो में जो रहस्यभावना प्रचलित थी वह ईश्वरवाद की भीतर थी ।-चिंतामणि, भा॰ २, पृ॰ १४० ।