ईषना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ईषना पु संज्ञा स्त्री [सं॰एषणा] प्रबल इच्छा । उ॰—सुत बित लोक ईषना तीनी । केहि कै मति इन्ह कृत न मलीनी ।— मानस, ७ ।७१ ।