ईहा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ईहा संज्ञा स्त्री [सं॰] [वि॰ ईहित]

१. चेष्टा । उ॰—सूछम समुझि परासयहि ईहा सभिप्राय । कर जोरत लखि हरिहि तिय लिय कज्जल दृग लाय ।— पदमाकर ग्रं॰, पृ॰ ६३ ।

२. उद्योग ।३ इच्छा । वांछा ।

४. लोभ ।—(डिं॰)