उऋण

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उऋण वि॰ [सं॰ उत् + ऋण]

१. ऋणरहित । ऋणमुक्त । जिसका ऋण से उद्धार हो गया हो । उ॰—तुम्हारा सहचरा सहचर बनकर क्या न उऋण होऊँ मैं बिना विलंब ।—कामायनी पृ॰ ५६ ।