उऋन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उऋन वि॰ [हिं॰ उऋणा] दे॰ 'उऋण' । उ॰—कोटि कलप लगि तुम प्रति प्रति उपकार करौ जौ हे मनहरनी तरुनी उऋन न होउँ तबौ तौ । ।—नंद॰ ग्रं॰, पृ॰ २१ ।