उकताना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उकताना क्रि॰ अ॰ [सं॰ अवकुलन पू॰ हिं॰ अकुताना]

१. ऊबना । उ॰—रोज पूड़ी़ खाते खाते जी उकता गया । (शब्द॰) ।

२. घबड़ाना । आकुल होना । जल्दी मचाना । उतावली करना । उ॰—उकताते क्यों हो; ठहरो, थोड़ी देर में चलते हैं । संयो॰ क्रि॰.—उठना । जाना । पड़ना ।