उकसनि

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उकसनि पु संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ उकसना] उभाड़ । उ॰—दृग लागे तिरछे चलन पग मंद लागे, उर में कछूक उकसनि सी कढ़ै लगी ।—(शब्द॰) ।