उगाना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उगाना ^१ क्रि॰ स॰ [हिं॰ उगना]

१. जनाना । अंकुरित करना । (पौधा या अन्न आदि) उत्पन्न करना ।

२. उदय करना । प्रकट करना । उ॰—ज्यों जल मधि सों लहिर उगाई, तिमि परमातम आतम आई ।—कबीर सा॰, पृ॰ १००० ।

उगाना ^२ † क्रि॰ स॰ [सं॰ उदघात प्रां॰ उगघाअ] मारने के लिये कोई वस्तु उठाना । तानना । उआना ।