उचकन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उचकन संज्ञा पुं॰ [सं॰ उच्च + कृत् > हिं॰ उचक से उचकन] ईट, पत्थर आदि का वह टुकड़ा जिसे नीचे देकर किसी चीज को ऊँची करते हैं । जैसे, चूल्हे पर चढ़े हुए बरतन के पेदे के नीचे दिया हुआ खपड़ैल का टुकड़ा अथवा खाते समय थाली को एक ओर ऊँचा करने के लिये पेंदी के नीचे रखी हुई लकड़ी ।