उचकना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उचकना ^१ क्रि॰ अ॰ [सं॰ उच्च = ऊँचा + करण = करना]

१. ऊँचा होने के लिये पैर के पंजों के बल एँडी उठाकर खड़ा होना । कोई वस्तु लेने या देखने के लिये शरीर को उठाना और सिर ऊँचा करना । जैसे,— (क) दीवार की आड़ से क्या उचक उचककर देख रहे हो । (ख) वह लड़का टोकरे में से आम निकालने के लिये उचक रहा है । उ॰—सुठि ऊँचे देखत वह उचका । दृष्टि पहुँच पर पहुँच न सका । —जायसी (शब्द॰) ।

२. उछलना । कूदना । उ॰—यों कहिकै उचकी परजंक ते पूरि रही दृग बारि की बूँदे ।—देव (शब्द॰) ।

उचकना ^२ क्रि॰ स॰ उछलकर लेना । लपककर छीपना । उठाकर चल देना । जैसे—जो चीज होती है तुम हाथ से उचक ले जाते हो । संयो॰ क्रि॰—ले जाना ।

उचकना ^३ संज्ञा पुं॰ उचकने की क्रिया या भाव ।