उच्चरण

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उच्चरण संज्ञा पुं॰ [सं॰] [वि॰ उच्चरणीय, उच्चरित]

१. कंठ, तालु, जिह्वा आदि के प्रयत्न से शब्द निकलना । मुँह से शब्द फूटना ।

२. ऊपर या बाहर आना (को॰) ।