उच्चरना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उच्चरना पु क्रि॰ स॰ [सं॰ उच्चरण] उच्चारण करना । बोलना । उ॰—बेदमंत्र मुनिवर उच्चरहीं । जय जय जय संकर सुर करहीं ।—मानस, १ । १०१ ।