उच्चाटन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

उच्चाटन संज्ञा पुं॰ [सं॰] [वि॰ उच्चाटनीय, उच्चाटित]

१. लगी या सटी हुई चीज को अलग करना । विश्लेषण ।

२. उचाड़ना । उखाड़ना । नोचना ।

३. किसी के चित्त को कहीं से हटाना । तंत्र के ६ अभिचारों या प्रयोगों में से एक । उ॰— मारन मोहन उच्चाटन और स्तंभन इत्यादि सब बल वेदमंत्रों में है ।—कबीर ग्रं॰, पृ॰ ३४ ।

४. चित्त का न लगना । अनमनापन । विरक्ति । उदासीनता ।