ऊँधा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊँधा ^१पु † वि॰ [हिं॰] दे॰ 'औँधा' । उ॰—ऊँधे खोरे काचे भाड़े । इन महि अम्रित टिकै न पांडे ।—प्राण॰ पृ॰ २६५ । मुहा॰—उँधा ताला मारना=उलटा ताला बंद करना । दिवाले का द्योतन । उ॰—ए बाजै देवालिया, ऊँधा ताला मार ।— बाँकी॰ ग्रं॰, भा॰२, पृ॰— ६६ ।

ऊँधा ^२पु † संज्ञा पुं॰ [हि॰ औंधा]

१. ढालुवाँ किनारा । ढाल ।

२. तालाब में चौपायों के पानी का घाट जो ढालुवा होता है । गऊघाट ।