ऊखि

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊखि पु † सज्ञा स्त्री॰ दे॰ 'ऊख' । उ॰—कीन्हेसि ऊखि मीठि रस भरी । कीन्हैसि करुइ बेलि बहु फरी । —जायसी ग्रं॰ (गुप्त), पृ॰ १२३ ।