ऊचाला

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊचाला संज्ञा पुं॰ [सं॰ उच्चलन, प्रा॰ उच्चालो]

१. स्थानांतर गमन ।

२. अकाल पड़ने पर मरुस्थल की जातियों द्वारा पशुओं के साथ किसी साधनसंपन्न स्थान में जाकर बसना । उ॰— पिंगल उचालऊ कियउ नल नखर चइदेस । ढोला॰, दू॰ २ ।