ऊझल

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊझल ^१ पु वि॰ [सं॰ उज्ज्वल] दे॰ 'उज्ज्वल' । उ॰—द्रुम नव पल्लव लागि, फूल खिले बहु भाँत के । रस ऊझल तन जागि, आगि मदन के गात के । —ब्रज॰ ग्रं॰, पृ॰ २२ ।

ऊझल ^२ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ ओझल] दे॰ 'ओझल' । उ॰—हरपट ऊझल मित्र सुम्हारा । पट उठाइ कखु है उँजियारा ।—इँद्र॰, पृ॰ १३१ ।